Top Gulzar Love Shayari In Hindi

Gulzar Love Shayari

Gulzar Shayari
 वो मोहब्बत💓 भी तुम्हारी थी नफरत 😣भी तुम्हारी थी,
 हम अपनी वफ़ा का इंसाफ किससे माँगते..
 वो शहर🏢 भी तुम्हारा था वो अदालत 🏯भी तुम्हारी थी. 

 Vo Mohobbat Bhi Tumhari Thi Nafrat Bhi Tumhari Thi,
 Hum Apni Wafa Ka Insaf Kisse Mangte,
 Wo Shahar Bhi Tumhara Tha Wo Adalat Bhi Tumhari Thi.

Gulzar Love Shayari

Top 10 Best Aankhen Shayari In Hindi

follow our instagram page


Gulzar Love Shayari

 यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर🌊 बहता
 कोई एहसास तो दरिया 🏞की अना का होता।

 Yu Bhee Ik Baar To Hota Ki Samundar Bahta
 Koi Ehasaas To Dariya Kee Ana Ka Hota..!! 

Gulzar Love Shayari

Gulzar Shayari
 वक़्त ⌚रहता नहीं कहीं टिक कर, 
 आदत इस की भी आदमी👦 सी है। 

 Waqt Rahta Nahi Kanhi Tik Kar,
 Aadat Is Ki Bhi Aadmi Si Hai. 

 बेशूमार मोहब्बत💓 होगी उस बारिश 🌧 की बूँद को इस ज़मीन से,🌍
 यूँ ही नहीं कोई मोहब्बत💓 मे इतना गिर जाता है!

 Beshumar Mohobbat Hogi Us Baarish Ki Bund Ko Is Zamin Se,
 Yun Hi Nahi Koi Mohobbat Me Itna Gir Jata Hai. 
  मैं हर रात 🌌सारी ख्वाहिशों को खुद से पहले सुला 😪देता हूँ, 
 मगर रोज़ सुबह🌅 ये मुझसे पहले जाग जाती है।

 Main Har Raat Saari Khwaishon Ko Khud Se Phle Sula Deta Hoon,
 Magar Roz Subh Ye Mujhse phle Jaag Jati Hai. 

Gulzar Love Shayari

Gulzar shayari
 हँसता😊 तो मैं रोज़ हूँ,
 मगर खुश हुए ज़माना हो गया।😌

  Hansta to main roz hoon
 Magar khush hue zamana ho gya. 

 आप के बाद हर घड़ी ⌚हम ने,
 आप के साथ ही गुज़ारी है।😊

 Aap Ke Baad Har Ghadee Ham Ne
 Aap Ke Saath Hee Guzaaree Hai..!! 
Gulzar Shayari

Gulzar Love Shayari

 वो चीज़ जिसे दिल💓 कहते हैं,
 हम भूल गए हैं 🤔रख के कहीं।

 Wo Chiz Jise Dil Kahate Hain,
 Ham Bhul Gaye Hain Rakh Ke Kahi…. 
 तुमको ग़म😣 के ज़ज़्बातों से उभारेगा कौन, 👆 
 ग़र हम भी मुक़र गए😏 तो तुम्हें संभालेगा कौन!

 Tumko Gum Ke Jazbaton Se Ubharega Kon,
 Gar Hum Bhi Mukar Gae To Tumhe Sambhalega Kon. 
 कभी तो चौक के देखे👀, कोई हमारी तरफ़,😳
 किसी की आँखों👀 में हमको भी को इंतजार दिखे।😇

 Kabhi To Cauk Ke Dekhe Koi Hamari Taraf,
 Kisi Ki Ankhon Me Hamako Bhi Ko Intzaar Dikhe.. 
 दिन🌅 कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
 जैसे एहसान उतारता है 😏कोई।

 Din Kuch Aise Guzarta Hai Koi,
 Jaise Ahsan Utarta Hai Koi. 
 तुम्हे जो याद करता हुँ😌, मै दुनिया भूल जाता हूँ ।
 तेरी चाहत💓 में अक्सर, सभँलना भूल जाता हूँ ।

 Tumhe Jo Yaad Karta Hoon, Main Duniya Bhul Jata Hoon.
 Teri Chahat Me Aksar, Sambhalna Bhul Jata Hoon. 

Gulzar Love Shayari

Gulzar Shayari
 इतना क्यों सिखाये
 जा रही है 👆ज़िन्दगी।
 हमें कौन सी सदियाँ
 गुज़ारनी है😏 यहाँ।।

 Itna kyo sikhaye
 Jaa rahi hai zindagi
 Humien kaun si sadiyaan
 Guzarni hai yahan 
Gulzar Shayari
 आइना🔍 देख कर तसल्ली हुई👦
 हम को इस घर🏠 में जानता है कोई।😄

 Aaina Dekh Kar Tasallee Huee
 Ham Ko Is Ghar Mein Jaanata Hai Koee..!! 
 कैसे गुजर रही है¸ सब पूछते है¸😏
 कैसे गुजारता हूं कोई नही पूछता ।😣

 Ҝaise Gujar Rahi Hai Sab Puchte Hain Ҝaise¸
 gujarta hu Ҝoi Nahin puchta. 
Gulzar Shayari
 तन्हाई अच्छी लगती है😌
  सवाल तो बहुत करती पर,.❓
 जवाब के लिए😏
 ज़िद नहीं करती..

 Tanhai Achi Lagti Hai
 Sawal To Bahut Karti par,
 Jawab Ke Liye Zid Nahi Karti. 
 कुछ ऐसे हो गए है इस दौर के रिश्ते¸😏
 आवाज 🙋अगर तुम ना दो तो बोलते 🙊वह भी नही।

 Ҝuch Aise ho gaye hain is Daur Ҝe Rishte¸
 Awaaz Agar Tuɱ Na do to bolate wo Bhi Nahin. 

Gulzar Love Shayari

 तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें 👀भली नहीं लगतीं
 वो सारी चीज़ें📑 जो तुम को रुलाएँ, 😭भेजी हैं।

 Tumhaaree Khushk See Aankhen Bhalee Nahin Lagteen
 Vo Saaree Cheezen Jo Tum Ko Rulaen, Bhejee Hain..!! 
 "खता उनकी भी नहीं यारो 🙄वो भी क्या करते,
 बहुत चाहने वाले थे 💓किस किस से वफ़ा करते😏 !"

 Khta Unki Bhi Nahi Yaaron Wo Bhi Kya Karte,
 Bahut Chahne Wale The Kis Kis Se Wafa Karte. 
 हाथ छूटें👏 भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते☝️
 वक़्त की शाख़🌿 से लम्हे नहीं तोड़ा करते।

 Haath Chhooten Bhi To Rishte Nahin Chhoda Karte
 Waqt Ki Shaakh Se Lamhe Nahin Toda Karate..!! 

Gulzar Love Shayari

Gulzar shayari
 बहुत मुश्किल से करता हूँ,
 तेरी यादों 😣का कारोबार।
 माना मुनाफा कम है,
 पर गुज़ारा हो जाता है।😏

 Bahut mushkil se karta hu
 Teri yaadon ka karobar
 Maana munafa kam hai
 Par guzara ho jata hai 

Gulzar Love Shayari

 तेरी तरह बेवफा 💔निकले मेरे घर के आईने🔍 भी¸
 खुद को देखूं तेरी तस्वीर👦 नजर आती है।

 Teri Tarah Bewafa niҜale ɱere Ghar Ҝe Aaine bhi¸
 Ҝhud Ҝo DeҜhu Teri Tasveer Nazar Aati Hai. 
 रोई है 😭किसी छत पे, अकेले🙍 ही में घुटकर,
 उतरी जो लबों👄 पर तो वो नमकीन थी 🌧बारिश।

 Royi Hain Kisi Chhat Pe, Akeli Hi Me Ghutkar,
 Utari Jo Labon Par To Wo Namkin Thi Barish.. 

Leave a Comment